Login lub e-mail Hasło   

Why silver sterling kaduli is good for children

स्टर्लिंग सिल्वर 925 हाल मार्क कडूली को ऑक्सीडाइज़ सिल्वर कडूली भी बोला जाता है। इन कडूली का उपयोग बच्चो के हाथो में पहनाने के लिए किया जाता है। सिल्वर की बनी कडूली में आपको कोई...
Wyświetlenia: 150 Zamieszczono 03/02/2018

स्टर्लिंग सिल्वर 925 हाल मार्क कडूली को ऑक्सीडाइज़ सिल्वर कडूली भी बोला जाता है। इन कडूली का उपयोग बच्चो के हाथो में पहनाने के लिए किया जाता है। सिल्वर की बनी कडूली में आपको कोई खास डिज़ाइन नहीं मिलता लेकिन स्टर्लिंग सिल्वर 925 ऑक्सीडाइज़ सिल्वर हाल मार्क कडूली में आपको बेहतरीन डिज़ाइन की रेंगे मिल जाएगी जो बहुत ही आकर्षक डिज़ाइन में होती है। स्टर्लिंग सिल्वर 925 ऑक्सीडाइज़ सिल्वर हाल मार्क कडूली बहुत हल्के वजन में उपलब्ध होती है। जिन की वजह से बच्चो को कभी भी भरीपनं महसूस नहीं होता हमारे भारत में स्टर्लिंग सिल्वर 925 ऑक्सीडाइज़ सिल्वर हाल मार्क कडूली बच्चो को पहनने का रिवाज़ बहुत पुराने समय से है। जब किसी के घर में कोई बच्चा पैदा होता है चाहे वो लड़का हो या फिर लड़की हो उसके हटो में ये स्टर्लिंग सिल्वर 925 ऑक्सीडाइज़ सिल्वर हाल मार्क कडूली पहनाई जाती है। कडूली पहननाने के पीछे कई तर्क सामने आते है हिन्दू धरम के अनुसार बच्चो के हाथ में कडूली इसलिए पहनाई जाती है ताकि लोगो की बुरी नज़र उसे न लगे। वही मुस्लिम लोग अपने बच्चो को कडूली इसलिए पहनाते है की उनका बच्चा सपने में डरे नहीं ऐसे बहुत से तर्क है। जो भिन्न भिन्न धर्मो के साथ नजर आते है।

Podobne artykuły


17
komentarze: 32 | wyświetlenia: 1419
14
komentarze: 60 | wyświetlenia: 794
14
komentarze: 33 | wyświetlenia: 1098
14
komentarze: 21 | wyświetlenia: 1053
13
komentarze: 93 | wyświetlenia: 362
13
komentarze: 25 | wyświetlenia: 850
13
komentarze: 9 | wyświetlenia: 643
13
komentarze: 68 | wyświetlenia: 473
13
komentarze: 3 | wyświetlenia: 1110
12
komentarze: 5 | wyświetlenia: 695
12
komentarze: 72 | wyświetlenia: 446
12
komentarze: 4 | wyświetlenia: 581
12
komentarze: 3 | wyświetlenia: 659
12
komentarze: 31 | wyświetlenia: 664
 
Autor
Artykuł

Powiązane tematy






Brak wiadomości


Dodaj swoją opinię
W trosce o jakość komentarzy wymagamy od użytkowników, aby zalogowali się przed dodaniem komentarza. Jeżeli nie posiadasz jeszcze swojego konta, zarejestruj się. To tylko chwila, a uzyskasz dostęp do dodatkowych możliwości!
 

© 2005-2018 grupa EIOBA. Wrocław, Polska